Q-mobile का यह पाकिस्तानी ad बेटियों को भी बेटो की तरह मानना सीखाता है और भारत के संदर्भ में भी प्रासंगिक है

0
635

क्रिकेट खेकने का हक़ जितना लड़को को है उतना ही लड़कियों को भी होना चाहिए और माता -पिता और ख़ास तोर पर पिता को अपनी बेटी को वह आज़ादी देने चाहिए जिसकी वह हक़दार है. बेटिया भी नाम रोशन कर सकती है और हमे बेटियों पर उतना ही नाज़ होना चाहिए जितना के बेटो की उप्लब्दियो पर.

इस विज्ञापन में वैसे काफी त्रुटियाँ है जैसे की सैमसंग मोबाइल का होना और क्रिकेट के मैदान में सारा (ख़ास किरदार ad की) के पास मोबाइल का होना -:) फिर भी ad का सन्देश बहुत सही है रमज़ान पर. जरूर देखे;

Snippet:
This Pakistani ad of Q-mobile urges you to treat your daughters as you treat your sons and is very relevant even for Indian parents.

Comments

comments