अलीबाबा ने दिखाई दिलचस्पी फ्लिप्कार्ट में

चीन के अलीबाबा ग्रुप अपनी छाप भारत में बढ़ाना चाहते है. सूत्रों के अनुसार अलीबाबा फ्लिप्कार्ट जो भारत की सबसे बड़ी इन्टरनेट कंपनी है में स्टेक लेने के इच्छुक है. हलांकि बातचीत अभी पहले दौर में ही है. डील का होना फ्लिप्कार्ट द्वारा अपने current valuation में डिस्काउंट देने पर भी निरभर करता है. फ्लिप्कार्ट की current वैल्यूएशन 15 billion dollar है.

अलीबाबा स्नेपडील से भी बात क्र रहे है मगर वहा भी डिस्काउंट की मांग है उनकी existing वैल्यूएशन पर जो इस समय 6.5 billion डॉलर है. फ्लिप्कार्ट, स्नेप्दिल और अलीबाबा के प्रवक्ताओ ने कुछ भी कहने से इनकार कर दिया. भारतीये इ-कोम्मेर्स कम्पनीज ओवर-वैल्यूड है और इन्वेस्टर्स में अभी के दामो में इंटरेस्ट नही है. यधपि दोनों कोपनिएस के पास कैश है 1-1.5 साल तक बिना किसी फंडिंग के बिज़नस चलने की परन्तु इ-कोम्म्मेर्स एक हाई बर्न रेट वाला बिज़नस है. जिसमे कैश बहुत जल्द ख़त्म होता है इन कंपनियो के बिज़नस मॉडल के कारण जिसमे डिस्काउंटेड प्राइस पर ग्राहकों को पाने की होठ रहती है. अमेज़न जो की अमेरिकन कंपनी है और इ कॉमर्स जायंट है भारत में पिछले वर्ष काफी अच्छा प्र्दशन किया और इंडियन इ कॉमर्स कम्पनीज के ग्राहक छीन कर अपना मार्किट शेयर को तेज़ी से बढ़ाया.

फ्लिप्कार्ट और स्नेप्दिल दोनों की मार्किट वैल्यूएशन कई दफा बढ चुकी है. अगर यह डील होती है तो अलीबाबा के साथ सोफ्त्बेंक और टाइगर ग्लोबल मैनेजमेंट सबसे बड़े इन्वेस्टर्स होंगे भारत में. सोफ्बेंक अलीबाबा में भी निवेशक है.

चीन की कम्पनीज भारत के बाज़ार में निवेश कर रही है, चीन की ट्रेवल बुकिंग कंपनी Ctrip ने हाल ही में makemytrip में 180 million डॉलर इन्वेस्ट किये थे. अलीबाबा के पास 17 billion डॉलर का कैश रिज़र्व है.

Comments

comments

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY