जज का सवाल ‘ क्यों नही रख सकती मुस्लिम महिलाये 4 पति ‘….?

0
370

केरल हाईकोर्ट के जज जस्टिस बी कमल पाशा ने मुस्लिम महिलाओ की दयनीय स्तिथि पर चिंता व्यक्त करते हुए एक अहम् सवाल उठा दिया है . जस्टिस बी कमल पाशा का कहना है मुस्लिम पर्सनल लॉ के अनुसार पुरुषो को यह विशेषाधिकार है के वोह कई शादिया कर सकता है .

जज जस्टिस बी कमल पाशा ने कहा , जब पुरुष कई बिविया रख सकता है तो मुस्लिम म्लिलाये क्यों 4 पति नही रख सकती , मुस्लिम पर्सनल लॉ औरतो को यह इजाजत क्यों नही देता. कोझिकोड में कुछ महिला वकील एनजीओ चलाती है उन्ही के द्वारा आयोजित सेमिनार में जनता को संबोधित करते हुए जस्टिस बी कमल पाशा ने कहा कि मुस्लिम पर्सनल लॉ महिलाओं के खिलाफ है।

जस्टिस बी कमल पाशा के मतानुसार मुस्लिम धार्मिक गुरु इन सब बातों के लिए ज़िम्मेदार है , मुस्लिम पर्सनल लॉ जहा मर्दों को कई तरह की इजाजत देता है वही औरतो के हक को दबाता है .

 

Comments

comments