भारत और अध्यातम

0
395

भारत संस्कृति का अध्यातम से बहुत ही गहरा रिश्ता है. भारत में ही जनम हुआ महात्मा बुध का, जैन धरम में आखिरी और चौबिस्वे तीर्थंकर महावीर का, गुरु नानक जी का, सुफियाना संस्कृति भी यहा पनपी और परवान चढ़ी. ये दर्शाता है भारत देश की अद्भुत संस्कृति को जिसमे समावेश है भिन्न भिन्न प्रकार की विचार धाराओ का और जिस को समान रूप से सम्मान मिला इस धरती पे.

जहा आपको मिलती है बुद्धिस्ट monasteries, मंदिर, मस्जिद, गिरजा, गुरद्वारे अलग तरह की पूजा, इबादत करते हुए. लेकिन भारतीयता को बर्करार रखते हुए. आईए आपको इस महान देश की सबसे बेमिसाल अध्यातम के गंतव्यो के बारे में संक्षेप में बताये.

हेमिस मोनेस्ट्री, लदाख

हेमिउस मोनास्ट्री सबसे बड़ी बुद्धिस्ट मोनास्ट्री है लदाख षेत्र में. इतिहासिक मुर्तियो और पवित्र थान्ग्कास के इलावा भी यह एक बहुत सुन्दर और अध्य्तम के लिये शांत और चित को सकून दिलने वाली जगहां है. हेम्सी अध्यात्मिक रिट्रीट मोंक्स द्वारा की जाने वाली निश्चित रूप से अध्बुत और वन्स इन अ लाइफ टाइम अनुभव है. जिसे मिस नहीं करना चाहिए.

hemis-monastery

बासीलीक ऑफ़ बोम जीसस, गोवा

यह एक UNESCO World Heritage साईट है, सबसे मशहूर चुर्चेस में से एक पंजिम, गोवा के बाच पर स्तिथ 300 साल पुराना चर्च है. संत फ्रांसिस ज़ेवियर के अवशेष यहा पर है जिन्हें पब्लिक के लिए साल में एक बार खोला जता है. जिसे देखने हाजारो सैलानी देश विदेश से आते है.

basillica

मोईनुद्दीन चिस्ती, अजमेर

दरगाह मोईनुद्दीन चिस्ती जी की मजार है. जो की एक मुस्ल्लिम स्कॉलर थे और उन्हें अल्लाह का संत माना गया है. और इससे अद्यातम हीलिंग के लिये बहुत उंचा मना जता है. लोगो की मान्यता है की धागा बाधाने से दरगाह पर मन की मुराद पूरी होती है. सभी धर्मो क्र लोग दरगाह पर मन्नत मानने आते है.

Dargah-of-Moinuddin-Chishti

ऋषिकेश

योग का जन्मस्थल अद्य्तम का गढ़ पवित्र गंगा नदी के तट पर पहाडियो से घिरा और साधू संतो की नगरी कहलाने वाली ऋषिकेश उत्तरखंड में हरद्वार से पास विस्मार्निये स्थान है. यहाँ पर दूर दूर से लोग ज्ञान और अध्यात्म की तलाश में आते है. यहां पर कई आश्रम और spiritualism के संस्थान है. ऋषिकेश का मतलब हैं शाब्दिक ऋषि केश यानी ऋषि के बाल सो ऋषिकेश धरती है र्सिही मुनिओ की. और पवित्र गंगा के किनारे मन चित प्रसनन हो जाता है.

rishikesh

Comments

comments