फेसबुक दुनिया की सबसे बड़ी आभासी (Virtual) कब्रगाह होगी 2098 तक

0
105

फेसबुक के अकाउंट रखने वाले करोडो में है और ज़रा सोचिये 2098 पहुचने तक कितने लोग जो आज फेसबुक का इस्तेमाल करते है जीवित नहीं होंगे. 80 साल के पश्चात मरे हुए की संख्या जीवित अकाउंट धारको के नंबर को पार कर जाएगी.

अभी जब कोई फेसबुक यूजर मरता है फेसबुक उनका पेज “memorialised” version में बदल देते है. अकाउंट को तभी बंद किया जा सकता जब कोई उस अकाउंट को पासवर्ड के साथ लोग इन(log-in) करे और डिलीट करे. परन्तु कुछ ही लोगो के पास दूसरो की login जानकारी होती है, इसलिए अकाउंट रहता जबकि व्यक्ति की मृत्यु भी हो जाये.

एक PhD स्टूडेंट हचेम सदिक्की जो मेसाचुसेट्स यूनिवर्सिटी का छात्र है ने यह निष्कर्ष निकला है 2098 में फेसबुक को सबसे बड़ा virtual graveyard में तबदील होने का. उन्होंने इस बात को मानते हुए इसका रिजल्ट निकला की फेसबुक एकाउंट्स डिलीट नहीं करेगा और जुड़ने वाले अकाउंट धारको की संख्या में धीरे धीरे भारी कमी आएगी.

ऑनलाइन लिगेसी प्लानिंग कंपनी Digital Beyond के मुताबिक 970,000 यूजर मरेंगे इस साल, 2010 में 385,968 मरे थे और 2012 में 5,80,000.

फेसबुक के मृत users को डिलीट न करने से और नये users की growth में कमी से जल्द ही जिंदा users से जायदा मरे हुए users हो जायेंगे.
फेसबुक ने “legacy contact” appoint करने को कहा है मरने से पहले, जो की एक तरह से आपका ऑनलाइन एक्सेचुटर होगा आपकी विल का.

Comments

comments

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here