वोह जिंदा है ! यही है हमारे बीच ! धर्म युद्ध के लिए तैयार है !

0
824

उसे मृत्यु नही आ सकती, उसे वरदान के रूप में एक श्राप मिला हुआ है . वोह अपने पापो को भोग रहा है , वोह आज भी इसी धरती पर है , हम लोगो के बीच , जिंदा है पर उसकी हालत ठीक नही, वोह अपने गुनाहों का दंड भोग फिर से अपना खोया सम्मान पाना चाहता है .

महाभारत युग से वोह भटक रहा है, भगवन श्री कृष्ण ने दिया था उसे उसकी गलती का दंड , वोह उसी को भोग रहा है .

ashwathama1

काफी लोगो का ऐसा मानना है, के उन्होंने देखा है उसे, उसकी हालत ठीक नही, दुनिया से छुपता फिर रहा है वोह महाबली, हमारे बीच ही रहता है , पर छुपा रहता है .

कोण जाने कहा से आता है, कहा चला जाता है . पर उसके आस्तित्व को नकारा नही जा सकता . हो सकता है उसे भगवन ने अभी तक किसी मकसद के लिए जिंदा रखा हो …?

पर वोह मकसद, prabhu की वोह लीला क्या है , यह कोई नही जानता . हो सकता है के वोह इसलिए धरती पर हो के हमे किसी बड़ी विपत्ति से बचा सके , कहते है वोह अकेला रहता है .

उसका ज़िक्र हमे इतिहास की कई किताबो में भी मिल जाता है .

कौन है वोह ?

वोह है अश्वत्धामा. गुरु द्रोणाचार्य और माता कृपी का पुत्र . महाबली और महाबलशाली .

Ashwatthama2

अश्वत्धामा ने दिया महाभारत के युद्ध में कोरवों का साथ, धोके से की उसने पांडव पुत्रो की हत्या, श्री कृष्ण ने दिया उसे श्राप के वोह अनंत कल तक भटकता रहेगा, तडपेगा पर मरेगा नही . अर्जुन ने निकल ली अश्वत्धामा के माथे पर लगी दिव्य मणि , जिस से उसे मिलता था तेज़ और ताकत .

पर prabhu की लीला, कोई नही जनता, हम यही कह सकते है के अश्वत्धामा को अभी तक जिन्दा रखने के पीछे जरूर कोई कारण है,कोई ऐसा कार्य करने के लिए उसे जिंदा रखा है भगवन ने के वोह मानव जाती के काम आ सके और इस तरह अपने श्राप से मुक्ति पा सके . यह हो सकता है , या फिर नही भी ….. कोई नही जानता सच क्या है , और सच सबूत मांगता है .

पर दिल नही . ….

Comments

comments

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here