baba barfani - lord amarnathघाटी में तनाव बढ़ गया है, हिज्बुल मुजाहिदीन के कमांडर बुरहान वानी के मारे जाने के बाद हालात बेकाबू होते नज़र आ रहे है, श्रीनगर समेत घटी के कई हिस्सों में कर्फ्यू की तरह प्रतिबंध लागू है, कश्मीर में मोबाइल और इन्टरनेट सेवाओ को बंद कर दिया गया है. ज्ञात हो बुरहान वानी और उसके दो साथी आतंकियो को कल सेना ने ढेर कर दिया था.

इसी तनाव के चलते, सावधानी बरतते हुए अमरनाथ यात्रा को बीच में ही रोक दिया गया है.

 

burhan

पुलिस की और से आ रहे बयान में यह बताया जा रहा है के कश्मीर के अधिकतर हिस्सों में स्तिथि काफी हद तक शांतिपूर्ण है, लेकिन कोकेरनाग इलाके में कल मुठभेड़ में मारे गए आतंकी कमांडर के गृहनगर त्राल के निवासियों ने विरोध प्रदर्शन किए. एक वरिष्ठ सरकारी अधिकारी ने कहा, ‘कानून-व्यवस्था बनाए रखने के लिए दक्षिण कश्मीर के अनंतनाग, पुलवामा के अधिकतर हिस्सों और श्रीनगर शहर के 6 पुलिस थानों में एहतियात के तौर पर लोगों की गतिविधियों पर प्रतिबंध लगाए गए हैं.

आगे पूछे जाने पर पुलिस के एक अधिकारी ने बताया, ‘जम्मू आधार शिविर से अमरनाथ यात्रा को स्थगित कर दिया गया है. आज किसी और तीर्थयात्री को घाटी की तरफ जाने की इजाजत नहीं दी जाएगी,’ उन्होंने कहा, ‘हालांकि कश्मीर में पहलगाम और बालटाल आधार शिविरों से यात्रा जारी रहेगी. तीर्थयात्रियों को ताकीद की गई है कि उनके आगे बढ़ने के बारे में कोई हिदायत जारी होने तक वे इन्हीं शिविरों में रूकें.

सैयद अली शाह गिलानी, मीरवाइज उमर फारूक और मोहम्मद यासीन मलिक समेत शीर्ष अलगाववादी नेताओं को कल रात नजरबंद कर दिया गया क्योंकि उन्होंने आज बंद का आह्वान किया था, हुर्रियत के दोनों धड़ों ने मारे गए आतंकवादियों के लिए जनाजे की गायबाना नमाज पढ़े जाने की योजना बनाई थी.

महिलाओं के कट्टरपंथी संगठन दुख्तरान ए मिल्लत की प्रमुख आसिया अंद्राबी ने तीन दिवसीय बंद का आह्वान किया है.

22 वर्षीय वानी को आतंकी संगठन हिज्बुल मुजाहिदीन का चेहरा माना जाता था और वह कश्मीरी युवकों को आतंकवाद की तरफ आकर्षित करता था. दक्षिण कश्मीर के अनंतनाग जिले में कल कोकेरनाग इलाके में वानी के मारे जाने के बाद पैदा हुए तनाव को देखते हुए अधिकारियों ने उक्त कदम उठाए हैं. अधिकारी ने कहा कि घाटी में हालात का जायजा लेने के बाद ही जम्मू से अमरनाथ यात्रा बहाल करने के बारे में कोई फैसला किया जाएगा.

वानी ने पिछले महीने जारी एक वीडियो संदेश में कहा था कि उसका संगठन अमरनाथ यात्रियों को कोई नुकसान नहीं पहुंचाएगा क्योंकि ‘वे हमारे मेहमान हैं’ , उसका यह संदेश वरिष्ठ सुरक्षा अधिकारियों के इस दावे के बाद आया था कि आतंकवादी अमरनाथ यात्रियों को निशाना बना सकते हैं.

अमरनाथ यात्रा के छठे दिन कल शाम तक एक लाख से अधिक लोग पवित्र गुफा के दर्शन कर चुके थे। यात्रा 17 अगस्त तक चलेगी.

Comments

comments

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here