गज़नी का है तुम में खून भरा जो तुम अफज़ल का गुण गाते हों; Yogeshwar Dutt

0
237

Yogeshwar Dutt(योगेश्वर दत्त ) ; अगर अफज़ल शहीद है तो लांस नायक हनुमन्त थप्पा कोन है ?

योगेश्वर दत्त ने अपने फेसबुक पेज के माध्यम से ये तीखी प्रतिक्रिया दी है, और अपना गुस्सा जाहिर किया है . JNU में चल रही नारेबाजी के खिलाफ योगेश्वर ने ये प्रतिक्रिया दी है .

जिस तरह भारत के खिलाफ JNU में नारेबाजी चल रही है , जिसमे अफज़ल गुरु जैसे गद्दारों को शहीद बताया जा रहा है  और भारत के टुकड़े टुकड़े करने वाले बयान दिए जा रहे है, उस से योगेश्वर दत्त बहुत आहत नज़र आ रहे है .

योगेश्वर दत्त भारत देश का वो बेटा है जो खेल के मैदान में भारत की जीत के लिए जी जान लगा देता है , आज जब उसी देश के बेटे के देश को किसी ने गाली दी तो उस का खून खोलना लाजमी था.

कुछ इस कदर अपने गुस्से को कलम से लिख डाला योगेश्वर ने अपने फेसबुक पेज पर ;

गज़नी का है तुम में खून भरा जो तुम अफज़ल का गुण गाते हों,

जिस देश में तुमने जनम लिया उसको दुश्मन बतलाते हो!

भाषा की कैसी आज़ादी जो तुम भारत माँ का अपमान करो,

अभिव्यक्ति का ये कैसा रूप जो तुम देश की इज़्ज़त नीलाम करो!

अफज़ल को अगर शहीद कहते हो तो हनुमनथप्पा क्या कहलायेगा,

कोई इनके रहनुमाओं का मज़हब मुझको बतलायेगा!

अपनी माँ से जंग करके ये कैसी सत्ता पाओगे,

जिस देश के तुम गुण गाते हो, वहाँ बस काफिर कहलाओगे!

हम तो अफज़ल मारेंगे तुम अफज़ल फिर से पैदा कर लेना,

तुम जैसे नपुंसको पे भारी पड़ेगी ये भारत सेना!

तुम ललकारो और हम न आये ऐसे बुरे हालात नहीं

भारत को बर्बाद करो इतनी भी तुम्हारी औकात नहीं!

कलम पकड़ने वाले हाथों को बंदूक उठाना ना पड़ जाए,

अफज़ल के लिए लड़ने वाले कहीं हमारे हाथो न मर जाये!

भगत सिंह और आज़ाद की इस देश में कमी नहीं,

बस इक इंक़लाब होना चाहिए,

इस देश को बर्बाद करने वाली हर आवाज दबनी चाहिए!

ये देश तुम्हारा है ये देश हमारा है, हम सब इसका सम्मान करें,

जिस मिट्टी पे हैं जनम लिया उसपे हम अभिमान करें! जय हिंद ।

 

 

गज़नी का है तुम में खून भरा जो तुम अफज़ल का गुण गाते हों,जिस देश में तुमने जनम लिया उसको दुश्मन बतलाते हो!भाषा की कैसी आ…

Posted by Yogeshwar Dutt on Saturday, February 13, 2016

कुछ इस तरह योगेश्वर दत्त ने लान्स नायक हनुमंथप्पा को दी थी श्रद्धांजली ;

󾌣तुम जिंदगी से जीते नही पर लड़े तो थे!ये बात कम नही की तुम जिद्द पर अड़े तो थे!ये गम रहेगा हम को, बचा ना सके तुम्हें;वरना हमे बचाने, वहां तुम खड़े तो थे!अलविदा हनुमंथप्पा…..🇮󾓭󾍛🇮󾓭󾍛🇮󾓭

Posted by Yogeshwar Dutt on Thursday, February 11, 2016

Comments

comments

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here