जब मोहम्मद अली ने अपना ओलिंपिक मैडल ओहियो नदी में फेंक दिया !

    0
    1183

    मोहम्मद अली गज़ब के मुक्केबाज़ थे, उनका जैसा मुक्केबाज़ न तो अभी तक पैदा हुआ है न ही शायद होगा, मुक्केबज्ज़ी के इस अमेरिकी शहशाह को सबसे ज्यादा तकलीफ भी उसके अपने देश के लोगो ने ही पहुचाई.

    muhammad-alijpg

    रंगभेद, एक ऐसा अभिशाप था 60 के दशक में अमेरिका में जिस से मोहम्मद अली भी नही बच पाए, बचपन से तो अली इस अभिशाप को सहते ए ही थे मगर हद तो उस दिन हो गयी जब अमेरिका के लोगो ने उनके द्वारा अमेरिका के लिए जीते गये पदक को भी नज़रंदाज़ कर दिया, यह वोह पल था जिसने अली को अन्दर तक झंकझोर डाला था .

    PS-2345-DSC02373_l

    किस्सों कहानिओ में ये दर्ज़ है के एक बार इसी नस्लीय टिपण्णी और रंगभेद का सामना जब मोहम्मद अली को करना पड़ा तो उन्होंने अपना मैडल ओहियो नदी में फेंक दिया था. पर उनके इस किस्से पर कभी असलियत की मोहर नही लगी , पर उनके कहे पर उनके चाहने वालो को विश्वास था .

    Muhammad-Ali

    कहा यु जाता है के एक बार जब अली रोम ओलंपिक ने अमेरिका की तरह से उतरे तो गोल्ड मैडल लेकर ही दम भरा, इसके बाद अली जब अमेरिका के इस रेस्टोरेंट में खाना खाने गये तो वहा एक श्वेत(गोरे) वेटर ने उन्हें खाने सर्व करने से मना कर दिया क्युकी अली अश्वेत(काले) थे, अली इस अपमान से बहुत आहत हुए, और इसी बात पर गुस्से में उन्होंने अपना मैडल फ़ेक मारा, अली ने कहा जिस देश में इस कद्र रंगभेद किया जाता हो उस देश का मैडल मुझे नही चाहिए.

    कहते है अली के इस कदम ने अमेरिका में हो रहे अश्वेतों पर अत्याचार को पूरी दुनिया के सामने ला कर रख दिया, हर तरफ इस वजह से अमेरिका को बहुत बदनामी भी हुई .

    donald-trump-muhammad-ali

    हाल ही में अली ने बिना किसी का नाम लिए डोनाल्ड ट्रूप के मुसलमानों पर दिए गये बयान पर भी तीखी टिपण्णी की थी.

     

    अभी जून 3, 2016 को 74 साल की उम्र में इस महान शख्स की मृत्यु हुई .

     

    Comments

    comments